कृषि कनेक्शन के नए नियम 2024: पूरी जानकारी

भारत एक कृषि प्रधान देश है और अधिकांश जनसंख्या कृषि कार्यों में संलग्न है. समय पर बारिश न होने के कारण फसलों की पैदावार प्रभावित होती है. ऐसे समस्या से निपटने के लिए सरकार द्वारा कृषि संबंधी विभिन्न योजनाओं को प्रारम्भ किया गया है, ताकि किसानों को इस योजना का लाभ मिले ताकि उनकी खेती पर कोई प्रभाव न पड़े.

देश के लगभग प्रत्येक बिजली कंपनी कृषि बिजली कनेक्शन प्रदान करती है. लेकिन बिजली कंपनियों के द्वारा कृषि कनेक्शन के नए नियम जारी किए जाते है. इस नियम के अंतर्गत ही कृषि बिजली कनेक्शन प्रदान किया जाता है. कुछ ऐसे शर्त भी होते है, जिन्हें किसानों को मानना होता है, उसके बाद कृषि कनेक्शन का लाभ उन्हें प्रदान किया जाता है.

इसलिए, यहाँ कृषि कनेक्शन के नए नियम सूचीबद्ध किया गया है, जिसके अंतर्गत आप अपने खेती के लिए कृषि कनेक्शन का लाभ प्राप्त कर सकते है.

कृषि कनेक्शन के नियम 2024

  • देश के कोई भी किसान अगर विद्युत निरीक्षक द्वारा अधिकृत लाइसेंस धारी के जरिए कनेक्शन प्राप्त करते है, तो उन्हें 750 रुपए प्रति स्पान की दर से लाभ प्रदान किया जाएगा.
  • चलित पम्प सेट योजना के अंतर्गत उपभोक्ताओं को दूसरा कनेक्शन अन्य योजना में होने पर भी शामिल किया जाएगा.
  • जो भी किसान अपने इच्छा से 3 स्टार रेटेड एनर्जी एफिशिएंट पंप लगाते हैं, उन्हें 750 रुपए प्रति एचपी की दर से अनुदान मिलता है.
  • कृषि विद्युत कनेक्शन के नए नियम के अनुसार बीपीएल लघु सीमांत किसानों को 5 एचपी तक के कृषि कनेक्शन के लिए डिमांड जारी करने में तीन साल तक की ओवर राइडिंग प्राथमिकता देने का प्रावधान उपलब्ध किया गया है.
  • कृषि कनेक्शन के नए नियम के अंतर्गत उपभोक्ता के कटे कनेक्शन को पुनः जुड़वाने के मामले में देय राशि पर ब्याज की दर 16 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत प्रतिवर्ष की गई हैं.
  • कृषि कनेक्शन के नए नियम के अनुसार किसान स्वयं कृषि कनेक्शन के लिए लाइन खड़ी कर सकते है.
  • कृषि विद्युत कनेक्शन के नियम के तहत किसानों को 20 हार्स पावर के भार का कृषि कनेक्शन ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी द्वारा प्रमाणित 5 स्टार रेटेड पंप सेट स्थापित करने पर ही कृषि कनेक्शन दिया जाएगा.
  • अपने कोटे का लाभ उठाने वाले उपभोक्ता कनेक्शन जारी होने के तीन साल बाद अपने कृषि कनेक्शन में लोड का इजाफा करवा सकते है.

Note: राज्य के अनुसार कृषि कनेक्शन के नियम अलग-अलग हो सकते है. इसलिए, कृषि कनेक्शन के लिए आवेदन करने से पहले अपने राज्य के अधिकारिक वेबसाइट से कृषि बिजली कनेक्शन नियम सम्बंधित जानकारी अवश्य प्राप्त कर ले.

कृषि विद्युत कनेक्शन का लाभ

देश के अलग-अलग राज्यों में कृषि कनेक्शन के नियम भिन्न-भिन्न है, और इस कनेक्शन के तहत अलग-अलग- राज्यों में विभिन्न प्रकार की सुविधाए प्रदान की जाती है.

  • कुछ राज्यों में कृषि कनेक्शन की योजनाए संचालित है, जिसके तहत प्रति यूनिट पर विशेष छुट भी प्रदान किया जाता है.
  • कृषि बिजली कनेक्शन केवल और केवल खेती करने के लिए ही उपलब्ध कराया जाता है.
  • ऑनलाइन कृषि कनेक्शन के लिए आवेदन अपने राज्य के बिजली कंपनी के अधिकारिक वेबसाइट से कर सकते है.
  • इसके अलावा आवेदन पत्र के माध्यम से भी कृषि कनेक्शन प्राप्त कर सकते है.
  • किसी समय बारिश न होने पर इस कनेक्शन के तहत खेतो में पानी का इन्तेजाम कर सकते है.
  • कृषि कनेक्शन कई राज्य में फ्री है. अर्थात, कृषि बिजली कनेक्शन लगाने में किसी प्रकार का कोई शुल्क नही लिया जाता है.

इसे भी पढ़े,

शरांश:

कृषि कनेक्शन के नए नियम में कुछ बदलाव किए गए है. जैसे, एक बार कनेक्शन कटने के बाद पुनः कृषि कनेक्शन प्राप्त कर सकते है, तथा देय राशि पर ब्याज की दर 16 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत प्रतिवर्ष की गई हैं. कृषि कनेक्शन की आवेदन अपने राज्य के बिजली कंपनी के अधिकारिक वेबसाइट से कर सकते है, जो पूरी तरह फ्री है. उम्मीद करता हूँ कि कृषि कनेक्शन के नए नियम की जानकारी आपको प्राप्त हो चुकी है. यदि कोई संदेह हो, तो हमें कमेंट अवश्य करे.

Leave a Comment