बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं 2024

बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं, Bijli Connection Kitne Prakar Ke Hote Hain: भारत के प्रत्येक राज्य क्षेत्र में बिजली कनेक्शन विभिन्न प्रकार से उपलब्ध है. अर्थात, अपने जरुरत के अनुसर बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन कर सकते है. इसलिए, बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन करने से पहले यह सुनिश्चित अवश्य कर ले कि बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं और आपको किस प्रकार की बिजली कनेक्शन की आवश्यकता है.

यहाँ उपयोग एवं वोल्टेज के अनुसार बिजली कनेक्शन के प्रकार उपलब्ध है. जो यह समझने में मदद करेगा कि आपको किस प्रकार की बिजली कनेक्शन की आवश्यकता है. उदाहरण के लिए यदि आप LT Connection के साथ जाते है, तो बिजली का बिल कम और HT Connection के साथ जाते है तो बिजली का बिल अधिक जमा करना पड़ेगा.

इसलिए, बिजली कनेक्शन के प्रकार को समझना आवश्यक तभी आप उचित बिजली कनेक्शन का चयन कर सकते है. यहाँ types of electricity connection in hindi अर्थात, बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते है के सम्बन्ध में सभी जानकारी उपलब्ध है.

जानकारी: बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं?

यदि आपको बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते है? के सम्बन्ध उचित जानकारी प्राप्त नही है. और आपने गलत बिजली कनेक्शन ले लिया है, तो इस स्थिति में अधिक बिजली का बिल जमा करना पड़ सकता है. इसलिए, अपने सुविधा एवं जरुरत के अनुसार ही बिजली कनेक्शन का चयन करना बुद्धिमानी है.

बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन करते समय फॉर्म या जिसके माध्यम से कनेक्शन लिया जा रहा है. वे बिजली कनेक्शन के प्रकार में आपसे पूछते है. अतः जरुरत के अनुसार ही अपने बिजली कनेक्शन प्रकार का चयन करे.

वोल्टेज के अनुसार बिजली कनेक्शन के प्रकार

दरअसल भारत में वोल्टेज के अनुसार बिजली दो प्रकार से प्रदान किया जाता है. इस प्रकार के बिजली कनेक्शन ज्यादातर शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में उपयोग होता है. हालाँकि, कम बिजली खपत के अनुसार इस प्रकार के बिजली कनेक्शन कही पर भी उपयोग में लिया जा सकता है. जो इस प्रकार है:

  1. LT Connection
  2. HT Connection

दोनों प्रकार के बिजली कनेक्शन की विस्तृत जानकारी निचे एक एक कर देखेंगे.

LT Connection

दरअसल, LT का फुल फॉर्म Low Tension बिजली कनेक्शन होता है. अर्थात, इस प्रकार के बिजली कनेक्शन में AC करंट का सबसे न्यूनतम भाग सप्लाई किया जाता है.

हालाँकि, इसमें भी दो प्रकार के बिजली कनेक्शन होते है. एक सिंगल फेज और दूसरा 3 फेज. वोल्टेज और फेज के अनुसार सिंगल फेज में 230 वोल्ट बिजली तथा थ्री फेज कनेक्शन में 400 वोल्ट का बिजली सप्लाई किया जाता है. LT बिजली कनेक्शन का उपयोग ज्यादातर घरेलु कनेक्शन के रूप में होता है.

क्योंकि, LT कनेक्शन में बिजली की खपत कम होती है जिससे बिजली का बिल भी कम आता है. इसलिए, इस प्रकार के कनेक्शन घरेलू कार्यो के लिए अधिक उपयोगी होते है.

HT Connection

HT का फुल फॉर्म High Tension बिजली कनेक्शन होता है. अर्थात, इस प्रकार के बिजली कनेक्शन में AC करंट का सबसे अधिक भाग यानि Industrial Connection से सप्लाई किया जाता है.

अर्थात, इस कनेक्शन का उपयोग अधिक मात्रा में बिजली लगने वाले कार्यो के लिए होता है. इसलिए, घरेलू बिजली बिल कनेक्शन की अपेक्षा HT Electricity connection के लिए अधिक बिजली बिल देना पड़ता है.

इस प्रकार के कनेक्शन में 11000 से 33000 वोल्टेज तक की बिजली Supply की जाती है. इसलिए, बड़े उद्योग या बड़े बड़े कारखानों में इसका उपयोग होता है.

उपयोग के अनुसार बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं?

बिजली कनेक्शन उपयोग के अनुसार तीन प्रकार के होते है. हालाँकि, इस प्रकार के बिजली कनेक्शन का उपयोग एवं विशेष भिन्न-भिन्न है. इसलिए, इसे तीन भागो में वर्गीकृत किया गया है. जो इस प्रकार है:

  1. घरेलु: Domestic Connection
  2. व्यावसायिक: Commercial Connection
  3. औद्योगिक: Industrial Connection

Domestic Connection

सामान्य घरों में सप्लाई होने वाली बिजली कनेक्शन को ही Domestic Connection कहते है. इस कनेक्शन में LT और HT दोनों कनेक्शन शामिल होते है. अर्थात, अपने सुविधा यानि जरुरत के अनुसार डोमेस्टिक कनेक्शन के अंतर्गत LT और HT का कनेक्शन प्राप्त कर सकत है.

डोमेस्टिक बिजली कनेक्शन सिंगल या थ्री फेज का हो सकता है. यदि आपको कम बिजली सप्लाई की जरुरत है, तो LT के लिव आवेदन करे और यदि अधिक बिजली सप्लाई की जरुरत है, तो HT के लिए अप्लाई करे.

Commercial Connection

इस प्रकार के बिजली कनेक्शन का उपयोग रेस्टोरेंट, दुकाने, हॉस्पिटल, मूवी थिएटर, बड़ी कंपनियों आदि में किया जाता है. क्योंकि, वह बिजली की खपत अधिक होती है और साथ इसमें बिजली सप्लाई निरंतर किया जाता है. इसलिए, इसे व्यवसायीक बिजली कनेक्शन के नाम से जानते है.

कमर्शियल बिजली कनेक्शन की खास बात है कि बिजली की सप्लाई 24 घंटे यानि लगातार किया जाता है. ऐसे में बिजली का बिल भी अधिक आता है.

Industrial Connection

इंडस्ट्रियल बिजली कनेक्शन को सामान्यतः औद्योगिक बिजली कनेक्शन के नाम भी जानते है. Industrial connection का उपयोग बड़े-बड़े कारखानों, बड़ी फैक्ट्री ,होटल, मॉल, विद्युत उपकरण बनाने, हेवी मशीन Drive करने आदि के लिए किया जाता है.

इस तरह के बिजली कनेक्शन भारत सरकार द्वारा संचालित Industrial area में निर्धारित किए गए स्थान पर ही मौजूद होते है. इसमें हजारो या लाखों में बिजली वोल्ट मौजूद होता है, जिसकी आपूर्ति 24 घंटे रहती है.

Note: बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं के सभी आवश्यक जानकारी आपको बताया गया है. उम्मीद है पसंद आया होगा.

इसे भी पढ़े,

सामान्य प्रश्न: FAQs

Q. घरेलू बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं?

घरेलू बिजली कनेक्शन दो प्रकार होते है. घरेलू बिजली कनेक्शन सिंगल फेज एवं 3 फेज में उपलब्ध होता है. अर्थात, सिंगल फेज में 230 वोल्ट तक का बिजली सप्लाई एवं थ्री फेज में 400 वोल्ट का बिजली सप्लाई किया जाता है.

Q. वोल्टेज के अनुसार बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं?

वोल्टेज के अनुसार बिजली कनेक्शन दो प्रकार यानि LT Connection और HT Connection होते है. दोनों कनेक्शन का उपयोग जरुरत के अनुसार घर या दुकान में किया जाता है.

Q. विद्युत कनेक्शन के 3 प्रकार क्या हैं?

विद्युत कनेक्टर्स को उनके समाप्ति सिरों के आधार पर तीन प्रकारों बोर्ड-टू-बोर्ड कनेक्टर, केबल/वायर-टू-केबल/वायर कनेक्टर, और केबल/वायर-टू-बोर्ड कनेक्टर में वर्गीकृत किया जाता है.

Q. घरेलू बिजली कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं?

बिजली कनेक्शन वोल्टेज के अनुसार अलग-अलग के होते हैं. लेकिन बिजली कनेक्शन मुख्य रूप से तीन प्रकार यानि घरेलू बिजली कनेक्शन, व्यवसायिक बिजली कनेक्शन, इंडस्ट्रियल कनेक्शन होते है.

Leave a Comment